गणेश जी की आरती 

Home गणेश जी की आरती 

Ganesh ji ki Arti

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥  जय गणेश..

एक दन्त दयावन्त चार भुजा धारी
मस्तक सिन्दूर सोहे मूसे की सवारी ।

पान चढ़े फूल चढ़े और चढ़े मेवा
लड्डूअन का भोग लागे सन्त करे सेवा ॥ जय गणेश..

अन्धन को आँख देत कोढ़िन को काया
बांझन को पुत्र देत निर्धन को माया ।

हार चढ़े फूल चढ़े और चढ़े मेवा
‘ सूरश्याम ‘ शरण आए सुफल कीजे सेवा ॥ जय गणेश..

 

 

error: Content is protected !!