Gangubai Kathiawadi Review गंगूबाई काठियावाड़ी रिव्यु 

Home Movie Review Gangubai Kathiawadi Review गंगूबाई काठियावाड़ी रिव्यु 
Gangubai razia

Gangubai Kathiawadi Review गंगूबाई काठियावाड़ी समीक्षा

संजय लीला भंसाली की गंगूबाई काठियावाड़ी की कहानी की बात करें तो ‘गंगूबाई काठ‍ियावाड़ी’ मुंबई के रेड लाइट एरिया कमाठीपुरा की कायाकल्प करने वाली गंगूबाई की कहानी है ।

दुनिया के सबसे पुराने पेशे की महिलाएं अपना व्यापार करती हैं, और नेहरूवादी समय में बॉम्बे के कमाठीपुरा में न्याय के लिए लड़ती हैं।  हालाँकि, पीरियड ड्रामा को इतनी सावधानी से गढ़ा गया है, जो तथ्यात्मक सटीकता के लिए नहीं बल्कि प्रभाव के लिए है ।

Gangubai Kathiawadi Review

Gangubai Kathiawadi Review गंगूबाई काठियावाड़ी समीक्षा

कौन हैं गंगूबाई काठियावाड़ी?

गंगा हरजीवनदास काठियावाड़ी गुजरात की  मूल निवासी थी, जो मुंबई आकर हिंदी फिल्मों में हीरोइन बनना चाहती थी। गंगा का  प्रेमी उसकी इसी इच्‍छा का फायदा उठाकर उसे  बंबई लाता है और 1000 रुपये में उसे मुंबई के एक कोठे पर बेच देता है। गंगूबाई ने 50 और 60 के दशक में मुंबई के प्रसिद्ध और प्रभावशाली वेश्यालय मालिकों में से एक के रूप में अपना नाम कमाया।

कमाठीपुरा मुंबई के सबसे पुराने और सबसे कुख्यात रेड लाइट जिलों में से एक है। उसने धीरे-धीरे अपना खुद का वेश्यालय संचालित करना समाप्त कर दिया और व्यावसायिक यौनकर्मियों के अधिकारों की पैरवी करने के लिए भी जानी जाती है।

गंगूबाई के जीवन के ज्यादा समकालीन लेख नहीं हैं। “मुंबई के माफिया क्वींस” पुस्तक, जिस पर आलिया भट्ट फिल्म आधारित है, उनके जीवन के कुछ पहलुओं पर आधारित है। कहा जाता है कि गंगूबाई व्यावसायिक यौनकर्मियों के अधिकारों की समर्थक रही हैं और जाहिर तौर पर इस मुद्दे पर राजनेताओं के साथ पैरवी की। हालांकि इन दावों का समर्थन करने वाला कोई समकालीन नहीं है।

कहा जाता है कि गंगूबाई को कमाठीपुरा में मां की तरह माना जाता रहा है। आज भी उनकी तस्‍वीरें वहां के कोठों में लगी हुई हैं, उनकी मूर्ती भी बनी है।

Gangubai Kathiawadi Review गंगूबाई काठियावाड़ी समीक्षा 

इस हफ्ते सिनेमाघरों में ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ रिलीज़ हुई है. ये फिल्म ‘माफिया क्वीन’ के नाम से जानी जाने वाली ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ की असल कहानी पर आधारित है। ‘गंगूबाई…’ एक महिला के सम्पूर्ण जीवन के स्ट्रगल की कहानी है। बेसिक कहानी यह है कि गुजरात के एक गांव में गंगा नामक लड़की रहती है, वह मुंबई जाकर हिंदी फिल्मों में हीरोइन बनना चाहती है।

परन्तु जब वह मुंबई पहुंचती है, तो खुद को मुंबई शहर की सबसे ‘बदनाम गली’ कमाठीपुरा में पाती है। और वेश्यावृत्ति के उस धंधे में आने के बाद गंगा बन जाती है गंगू। फिर शहर के सबसे बड़े डॉन से  गंगू की मुलाकात होती है , जो उसे बहन बुलाता है। और यहां से गंगू के गंगूबाई बनने का सफर शुरू हो जाता है, जिसका बड़ा मकसद है उस समय के प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु से उसकी मुलाकात।

चूंकि बॉम्बे के अंडरवर्ल्ड के इतिहास में गंगूबाई शायद केवल एक फुटनोट थी और आम तौर पर जनता को पता नहीं था कि वह कैसी दिखती थी, हमें चरित्र के साथ अभिनेत्री की शारीरिक समानता के बारे में सोचने की आवश्यकता नहीं है।  एक शानदार स्टार टर्न की शक्ति के साथ, आलिया भट्ट वास्तविक जीवन के नायक को इतनी जीवंतता से जीवंत करती है कि सभी प्रश्न पिघल जाते हैं।

इसे पढ़ें‘द कश्मीर फाइल्स’ फिल्म समीक्षा The Kashmir Files Review

अवधि विवरण पृष्ठभूमि में बजने वाले गीतों और कमाठीपुरा की दीवारों और पड़ोस में काम करने वाले सिनेमा हॉल पर फिल्म के पोस्टर (चौधवि का चांद, जाहजी लुटेरा) में प्रकट होते हैं।

जब कोई उर्दू पत्रकार गंगूबाई को अपनी पत्रिका की एक प्रति दिखाता है तो हम देखते हैं कि वह अंग्रेजी में छपी एक पत्रिका है या कि गंगूबाई के वेश्यालय में पैदा हुए सभी बच्चे लड़कियां हैं। सिनेमाई निबंध में ये मामूली अड़चनें हैं जिनकी महत्वाकांक्षा उन छोटी-छोटी बातों से बड़ी है।

Gangubai Kathiawadi Review गंगूबाई काठियावाड़ी समीक्षा

फिल्म में आलिया भट्ट ने इस किरदार को निभाया है। आलिया एक बहुत ही काबिल एक्ट्रेस हैं। इस फिल्म में भी उनका काम बेहद कमाल का है, परन्तु आप फिल्म देखते समय उस रोल में तबू या माधुरी दीक्षित जैसी हीरोइनों को इमैजिन किए बिना नहीं रह पाएंगे।

उनके अलावा सीमा पाहवा ने इस फिल्म में शीला मासी का रोल किया है। शीला ही वह महिला है, जो गंगा को जबरदस्ती जिस्मफरोशी के धंधे में लेकर आती है। इस फिल्म में सीमा पाहवा को मिडल क्लास फैमिली की फनी बुआ-आंटी वाले रोल से कुछ अलग करते देखकर बहुत अच्छा लगता है।

Gangubai Kathiawadi Review गंगूबाई काठियावाड़ी समीक्षा

फिल्म में विजय राज ने रज़िया नाम के एक ट्रांसजेंडर कैरेक्टर प्ले किया है, जिसकी कमाठीपुरा में बहुत चलती है। मगर रज़िया फिलर टाइप कैरेक्टर ही बनकर रह जाता है। इस फिल्म में विजय राज के केवल एक-दो सीन्स हैं, जिनमें उन्हें परफॉर्म करने का मौका मिलता है। परन्तु उसका स्क्रीनटाइम बहुत कम है।दर्शक उन्हें फिल्म में और देखना चाहते हैं।

इस फिल्म में अजय देवगन रहीम लाला नाम के किरदार में दिखते हैं, जो उस समय के रियल लाइफ डॉन करीम लाला से प्रेरित है। वह छोटा होकर भी फिल्म के लिए ज़रूरी किरदार है, क्योंकि जिस घटना की वजह से गंगू की कहानी बदल जाती है, उस बदलाव में रहीम लाला का बहुत बड़ा हाथ है।

Gangubai Lala

भंसाली, जिन्होंने गंगूबाई काठियावाड़ी का संपादन किया है और साथ ही फिल्म के गीतों की रचना की है, के पास प्रोडक्शन डिजाइनर सुब्रत चक्रवर्ती और अमित रे और फोटोग्राफी के निर्देशक सुदीप चटर्जी के सहयोगी हैं। फ़ेडआउट्स और फ़ेड-इन्स के संयोजन के माध्यम से और गंगूबाई की अंधेरी दुनिया और उनके द्वारा पहनी जाने वाली सफेद साड़ी के बीच विरोधाभासों के माध्यम से, फिल्म एक ऐसा माहौल बनाती है जो जानबूझकर तैयार किए जाने के बावजूद हमें अपनी ओर खींचती है और हमें कहानी पर विश्वास कराती है।

शांतनु माहेश्वरी एक युवा दर्जी है जो गंगूबाई के दिल को झकझोर देता है। और इंदिरा तिवारी वेश्यालय में गंगूबाई की सबसे करीबी दोस्त और विश्वासपात्र कमली की भूमिका निभाती हैं। फिल्म में उनके पास सीमित दायरे के बावजूद वे सभी प्रभाव डालते हैं।

शक्तिशाली संवादों के लिए कुछ दृश्य बाहर खड़े हैं। एक ईरानी कैफे में आलिया भट्ट बनी  गंगूबाई और  विजय राज बनी  रजिया बाई के साथ-साथ चल रही है; कि वह और उसकी सहेलियाँ इसके भेजा फ्राई और नल्ली निहारी के लिए अक्सर आते हैं। यह बहुत चटपता दृश्य है।

Gangubai Kathiawadi Review गंगूबाई काठियावाड़ी समीक्षा

इस फिल्‍म के साथ एक द‍िक्‍कत ये है कि यह एक वेश्‍यावृति करने वाली एक मह‍िला की कहानी है। ऐसे में फैमली ऑडियंस  पहले ही थोड़ा झ‍िझक महसूस करती है। क्‍योंकि फैमली ऑडियंस  को यह नहीं पता कि फिल्‍म में चीजें क‍िस हद तक द‍िखाई जाएंगी। ऐसे में स‍िनेमाघर में र‍िलीज हुई इस फिल्‍म तक  फैमली ऑडियसं को लाना एक द‍िक्‍कत वाली बात है।  हालांकि इस फिल्म के न‍िर्देशक ने बड़ी ही सटीकता के साथ इस फिल्‍म को बनाया है और यही वजह है कि फिल्म देखते समय शायद किसी भी सीन में आपको आंखे नीचे करने या सोचने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

इसे पढ़ें –

‘द कश्मीर फाइल्स’ फिल्म समीक्षा The Kashmir Files Review

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!