किशोरावस्था सीखने की उम्र होती है

किशोरावस्था सीखने की उम्र होती है

किशोरावस्था सीखने की उम्र होती है

जीवन में किशोरावस्था, एक युवक के लिए बनने और बिगड़ने का महत्त्वपूर्ण समय होता है। उस समय शरीर में तरह तरह के हार्मोन्स में बदलाव आता है। उस समय हमारी इक्षाशक्ति बहुत प्रबल होती है। शरीर और मन ऊर्जा से परिपूर्ण होता है। कई बार युवा समझ नहीं पाते कि उस ऊर्जा का उपयोग कैसे और कहाँ करना है।

उस अवस्था में अक्सर सही और गलत रास्ते में फर्क करने की समझ भी काम नहीं करती। इसलिए युवाओं को सही मार्ग दर्शन की आवश्यकता होती है। युवाओं को हर चीज या कार्य सिर्फ अपने मन को अच्छा लगने वाला ही नहीं करना चाहिए क्योंकी किशोरावस्था में मन तो बहुत कुछ करने को कहता है। उन्हें जीवन पथ पर संयम और समझ के साथ आगे बढ़ाना चाहिए।

किशोरों के लिए कुछ बातें जो उन्हें जीवन पथ पर आगे बढ़ने के लिए सहायक हो सकती हैं – 

  • किशोरावस्था सीखने की उम्र होती है इसलिए हमेशा सीखने के लिए तैयार रहें।
  • आप एक समाज में रहते हैं तो आपको समाज के हिसाब से चलना चाहिए। हर कार्य सिर्फ अपने तरीके से ही नहीं करना चाहिए।  वही करें जो आपके लिए सही हो और जिससे समाज के नियमों का उलंघन न हो।
  • अपने माता-पिता का सम्मान करें और वे जो कहते हैं उसका पालन करें, क्योंकि आप अकेले अपने निर्णय लेने में पूर्ण रूप से सक्षम नहीं हैं।
  • आपको केवल अपने भविष्य और अपने करियर पर ध्यान देना चाहिए। दुनिया की चमक धमक को अनदेखा करें। क्योंकि कच्ची उम्र में मन हर जगह भागता है।
  • अक्सर इस उम्र में  आप अपनी शिक्षा और भविष्य के बारे में नहीं सोचते परन्तु जब आप परिपक्व हो जाते हैं तब केवल पछतावा कर सकते हैं।
  • बीता हुआ वक्त कभी लौटकर नहीं आता। इसलिए समय की कीमत को पहचाने।
  • याद रखे आपकी यह उम्र बीत जाने के बाद दुबारा कभी वापस नहीं आएगी। इसलिए उस अवस्था में मजे करने के बजाय उस वक्त का सदुपयोग करें।
  • सोशल मीडिया से दूर रहने की कोशिश करें। यह आपके कौशल को कमजोर बनाता है।
  • अपने नए मित्रों के साथ अपने रहस्यों को कभी साझा न करें। और अपने पुराने दोस्तों को  कभी भी अपने भविष्य की योजना के बारे में न बताएं। ये दोनों ही हानिकारक हैं।
  • किशोरावस्था किसी स्थायी रिश्ते के बारे में सोचने या रिस्ता बनाने की उम्र नहीं है। इसलिए इसलिए इनसे दूर रहने की कोशिश करें।
  • यौन गतिविधियों में शामिल होने से बचें। किशोरावस्था में अक्सर ऐसे मामले दोस्तों के बीच देखने को मिलते हैं।
  • इस उम्र में आपको हर नकारात्मकता से सकारात्मक चीजें सीखनी होगी ।
  • आधुनिक युग इंटरनेट का युग है। मोबाइल पर गेम न खेले। बाहर जाकर मैदान में खेल खेले, वह ज्यादा लाभकारी है।
  • हमेशा अच्छे दोस्त बनायें और गलत संगती से बचें। गलत लोगो की संगती से आपकी छबि घराब होती जाती है।

इसे पढ़ें-

मन को शांत रखें

तनाव से मुक्ति

गुच्छे की कीमत 

सफल जीवन

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here